बच्चों की ट्रैफिकिंग के खिलाफ चलाया जनजागरूकता अभियान

समस्तीपुर। 30.07.2023विश्व मानव दुर्व्यापार निषेध दिवस के अवसर पर 30 जुलाई को जवाहर ज्योति बाल विकास केंद्र ने समस्तीपुर जिला में ट्रैफिकिंग के खिलाफ जनजागरूकता अभियान चलाया। इस दौरान लोगों को ट्रैफिकिंग के खिलाफ शपथ भी दिलाई गई।जवाहर ज्योति बाल विकास केंद्र अर्से से स्कूलों, आंगनबाड़ियों, पंचायतों के अलावा घर-घर जाकर बच्चों की ट्रैफिकिंग और बाल मजदूरी के खिलाफ जागरूकता अभियान चला रहा है और लोगों को बच्चों की ट्रैफिकिंग रोकने की शपथ दिला रहा है।

इन सतत प्रयासों का उद्देश्य बच्चों की ट्रैफिकिंग और बाल श्रम के खिलाफ लोगों में जागरूकता के स्तर को बढ़ाना और इसकी बुराइयों से अवगत कराना है। कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन्स फाउंडेशन, नई दिल्ली का कहना है कि यद्यपि पिछले एक दशक में देश में केंद्र और राज्य सरकारों नें बच्चों की ट्रैफिकिंग पर काबू पाने के लिए कई ठोस कदम उठाए हैं लेकिन आम लोगों में जागरूकता की कमी के कारण ये प्रयास पूरी तरह सफल नहीं हो पाए हैं। देश के विभिन्न हिस्सों में बाल दुर्व्यापार या बच्चों की ट्रैफिकिंग को रोकना दशकों से एक बड़ी चुनौती है। यद्यपि सरकारी व गैर सरकारी स्तर पर प्रयासों के कारण ट्रैफिकिंग के मामले दर्ज होने की संख्या बढ़ी है लेकिन अभी भी बहुत कुछ करना शेष है। राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के 2021 के आंकड़ों से पता चलता है कि देश में हर घंटे नौ बच्चे लापता होते हैं, जबकि रोजाना आठ बच्चे ट्रैफिकिंग के शिकार होते हैं। रिपोर्ट बताती है कि 2021 में देश 77,535 बच्चे लापता हुए जो 2021 के मुकाबले 31 फीसद ज्यादा है।

देश में बच्चों की ट्रैफिकिंग के बढ़ते मामलों पर चिंता जाहिर करते हुए जवाहर ज्योति बाल विकास केंद्र के संस्थापक सचिव सुरेन्द्र कुमार ने कहा कि “यह तथ्य है कि आज ज्यादा से ज्यादा लोग बच्चों के लापता होने की जानकारी देने सामने आ रहे हैं, अपने आप में एक बड़ा बदलाव है। यह इस बात का संकेत है कि जमीनी स्तर पर घर-घर जाकर हमने जो जागरूकता अभियान चलाया है, उससे लोगों की मानसिकता बदली है और सुखद नतीजे सामने आ रहे हैं ।

हालांकि सरकारें और कानून प्रवर्तन एजेंसियां पूरी मुस्तैदी से बच्चों की ट्रैफिकिंग रोकने के प्रयासों में जुटी हुई हैं लेकिन इस संगठित अपराध को देश से पूरी तरह खत्म करने के लिए एक कड़े एंटी-ट्रैफिकिंग कानून की सख्त जरूरत है इसलिए सरकार संसद में एंटी-ट्रैफिकिंग बिल शीघ्र पास कराए।”कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन्स फाउंडेशन, नई दिल्ली के सहयोग से जवाहर ज्योति बाल विकास केन्द्र समस्तीपुर में संचालित एक्सेस टू जस्टिस कार्यक्रम अंतर्गत आज कार्यक्रम समन्वयक दीप्ति कुमारी, अनिल कुमार और सपोर्ट पर्सन कौशल कुमार के संयुक्त और सामुहिक नेतृत्व में समस्तीपुर जिला के शाहपुर पटोरी, मोहनपुर, मोहीउद्दीननगर, विद्यापतिनगर, दलसिंहसराय, उजियारपुर, सरायरंजन, मोरवा, वारिसनगर और समस्तीपुर प्रखंड के विभिन्न गांवों टोलों और समस्तीपुर जंक्शन परिसर में बाल व्यापार के विरुद्ध जन जागरूकता रैली का आयोजन किया गया। मौके पर नेहा कुमारी, अंशु कुमारी, रीता कुमारी, प्रेम कुमार महतो, अमृता प्रीतम, रामा कुमार, सुवंश कुमार ठाकुर, रश्मि कुमारी, वीभा कुमारी, अंजू कुमारी, बलराम चौरसिया, दिनेश प्रसाद चौरसिया, काजल कुमारी, कौशल्या कुमारी, राजकुमार पासवान, ललिता कुमारी, वीणा कुमारी, नवनीत कुमार, किरण कुमारी, रामप्रित चौरसिया, श्रृष्टि राज आदि नें जागरूकता रैली को सफल बनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *